Transistor क्या है? ये कहा use होता है?

 Hey, doston Swagat hai aapka gyanuday Mein. Doston Apne transistors ke bare mein Pade Suna to Jarur hoga is article mein main aapko transistor se related kuch basic Jankari dunga.


Transistor क्या है?


Transistor कंप्यूटिंग डिवाइस का सबसे बेसिक यूनिट है। आज के काम में आने वाले कंप्यूटर्स करोड़ों ट्रांजिस्टर के कॉन्बिनेशन से बने होते हैं। ट्रांजिस्टर की उपयोगिता का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि इंटेल i7 में 73 करोड़ ट्रांजिस्टर से मिस्टर 133 की डिवाइस है।

जो के एंपलीफायर या फिर स्विचिंग डिवाइस की तरह काम में आती है। इसकी वर्किंग को समझने के लिए हम एक एग्जांपल लेते हैं जैसे कि पानी से बेहतर पाइप से एक बाल भी लगा है वॉल्वो करते हैं तो पानी रुक जाएगा या फिर वालबोन करेंगे तो पानी पूरी गति से देगा। कैसे ट्रांजिस्टर भर करता है ट्रांजिस्टर के 3 दिन होती है और मीटर देश और कलेक्टर बीच में बल्ब और एक बैटरी कनेक्ट है मिस्टर केकरो कोई करंट फ्लो नहीं करेगी।जिसका मतलब है कि यह बल्लो नहीं करेगा स्किन से एक बेटे को कनेक्ट करेंगे।

तो मीटर और कलेक्टर पर रोक करंट फ्लो करेगी जिसका मतलब है कि यह बंद हो जाएगा। अभी एक चीज बहुत इंपोर्टेंट है बैटरी करंट बहुत कम है। मिलियम्पीयर या फिर माइक्रोकेयर में जिसका मतलब है कि सिग्नल पुरुष। हमें बहुत ही कम पावर की जरूरत रहेगी। करण मेकिंग टिप्स रिप्लेस हो गई।

Transistor कहा use hota है?


दोस्तों यहां पर हमने बेस्पिन से बैटरी कनेक्ट की है यह केवल समझाने के लिए है असल में यहां पर हमको सिग्नल देते हैं। यह सिग्नल आप कैसे भी दे सकते हैं जैसे कि कार्डिना या फिर एक 555 टाइमर आईसी से तो दोस्तों वापस आते हैं। मोबाइल पर कालकेतु पानी के फ्लोर को ऑन या फिर और कर रहे थे। लेकिन यह लोग को कंट्रोल भी कर सकते हैं। भालू का आधा खोला तो पानी का फ्लोर भी कुछ ऐसे हिसाब से हो जाएगा।

ठीक इसी तरह से हमें मीटर और कंट्रोलर के बीच की करंट को भी कंट्रोल कर सकते हैं। मतलब की बाइक इंटेंसिटी को कंट्रोल कर सकता है और इस एंपलीफायर मोड कहते हैं हमारे मोबाइल का आउटपुट सीखना है ।तो आउटपुट साइड में लगा हुआ बलवीर साउंड सिग्नल के कोडिंग ब्लॉक करेगा। तो दोस्तों अभियान देखेंगे

 ट्रांसिस्टर्स को हम एंबेडेड सिस्टम में कैसे काम में ले सकते हैं। आपके पास एक छोटी सी मोटर है और आप चाहते हो कि आप इस मोटे को फोन करें और फिर 5 सेकंड ऑफ करें तो आप ही सिग्नल माइक्रोकंट्रोलर कर सकते हैं। लेकिन आउटसाइड नहीं होती। आप डायरेक्ट आप चाहे तो पीएनपी ट्रांजिस्टर भी काम में ले सकते हैं । एनपीएन ट्रांजिस्टर इस काम के लिए ज्यादा बेटर रहेगा तो यहां कलेक्टर मीटर के बीच में एक मोटर और बैटरी को कनेक्ट कर देते हैं। और माइक्रोकंट्रोलर की आउटपुट पिन को एक रजिस्टेंस केतु ट्रांजिस्टर के बेस्पिन से कनेक्ट कर देते हैं।